Stories
Photo of author

Swami Vivekanand Story In Hindi

आज हम जानेगे Swami Vivekanand Story In Hindi | स्वामी विवेकानंद की कहानी हिंदी में | Swami Vivekananda Life Story in Hindi | स्वामी विवेकानंद की महत्वपूर्ण बातें बताने वाले है.

जैसा की हमने आपको Title में बताया है की आज हम Swami Vivekananda Biography in Hindi के बारे में बताने वाले है की जो स्वामी विवेकानंद की जीवन दर्शन समझने में बहुत ही आसानी होगी.

स्वामी विवेकानंद के महान उपदेश और जो की स्वामी विवेकानंद के योगदान है वो नीचे उनको अब आपको बताने वाले है-

Swami Vivekanand Story In Hindi

अब आप नीचे दिए स्वामी विवेकानंद की जीवनी इन हिंदी जो ये बच्चों के लिए स्वामी विवेकानंद की आत्मकथा हिंदी में कहानियां के माध्यम से आपको बताने वाले है –

स्वामी विवेकानंद की कहानी हिंदी में-

स्वामी विवेकानन्द का जन्म 12 जनवरी 1863 को हुआ था।

उनका उपनाम नरेन्द्र दत्त था। उनके पिता विश्वनाथ दत्त पश्चिमी सभ्यता में विश्वास रखते थे।

वह अपने बेटे नरेंद्र को भी अंग्रेजी पढ़ाना चाहते थे और पश्चिमी सभ्यता के सिद्धांतों के अनुसार उसका पालन-पोषण करना चाहते थे।

Swami Vivekanand Story In Hindi
Swami Vivekanand Story In Hindi

नरेन्द्र की बुद्धि बचपन से ही बहुत तीव्र थी और ईश्वर को पाने की इच्छा भी प्रबल थी। इसके लिए वे सबसे पहले ब्रह्म समाज गये लेकिन वहां उनका मन संतुष्ट नहीं हुआ।

1884 में विश्वनाथ दत्त की मृत्यु हो गई। घर का बोझ नरेंद्र पर आ गया। घर के हालात बहुत ख़राब थे.

एकमात्र अच्छी बात यह थी कि नरेन्द्र का विवाह नहीं हुआ था। अत्यधिक गरीबी में भी, नरेंद्र एक महान मेजबान थे।

उसने खुद भूखे मेहमान को खाना खिलाया, पूरी रात बारिश में भीगते और कांपते हुए बाहर रहा और मेहमान को अपने बिस्तर पर सुला दिया।

रामकृष्ण परमहंस की प्रशंसा सुनकर नरेंद्र पहले तो उनसे बहस करने के इरादे से उनके पास गए, लेकिन परमहंस जी ने तुरंत पहचान लिया कि यह वही शिष्य है जिसका वे कई दिनों से इंतजार कर रहे थे।

परमहंस जी की कृपा से उन्हें आत्म-साक्षात्कार हुआ और परिणामस्वरूप नरेन्द्र परमहंस जी के शिष्यों में प्रमुख हो गये। संन्यास लेने के बाद उनका नाम विवेकानन्द हो गया।

स्वामी विवेकानन्द ने अपना जीवन अपने गुरुदेव स्वामी रामकृष्ण परमहंस को समर्पित कर दिया था।

गुरुदेव की मृत्यु के दिनों में घर-परिवार की गंभीर स्थिति के बावजूद वे स्वयं के भोजन की चिंता किये बिना गुरु सेवा में निरंतर उपस्थित रहे।

गुरुदेव का शरीर अत्यंत रुग्ण हो गया था। कैंसर, बलगम, खून, कफ आदि के कारण। वे गले से बाहर आ गये। उन्होंने ये सब बहुत ध्यान से साफ किया.

एक बार किसी ने गुरुदेव की सेवा में घृणा और लापरवाही दिखाई और घृणा से नाक-भौहें सिकोड़ लीं। यह देखकर विवेकानन्द क्रोधित हो गये।

गुरुभाई को सबक सिखाते हुए और गुरुदेव की हर बात के प्रति अपना प्यार दिखाते हुए, उन्होंने खून, कफ आदि से भरा एक थूकदान लिया। उसके बिस्तर के पास जाकर शराब पी।

गुरु के प्रति ऐसी शुद्ध भक्ति और निष्ठा की महानता के कारण ही वह अपने गुरु के शरीर और उनके दिव्य आदर्शों की सर्वोत्तम सेवा कर सके।

वह गुरुदेव को समझ सका, अपने अस्तित्व को गुरुदेव के स्वरूप में विलीन कर सका। भारत के अमूल्य आध्यात्मिक खजाने की खुशबू पूरे विश्व में फैलाना।

स्वामी विवेकानंद की कहानी हिंदी में

उनके महान व्यक्तित्व की नींव ऐसी गुरुभक्ति, गुरुसेवा और गुरु के प्रति पूर्ण निष्ठा थी।

25 वर्ष की आयु में नरेन्द्र दत्त ने भगवा वस्त्र धारण किये। बाद में उन्होंने पूरे भारत की पैदल यात्रा की।

1893 में शिकागो (अमेरिका) में विश्व धर्म परिषद् का आयोजन हुआ। स्वामी विवेकानन्दजी भारत के प्रतिनिधि के रूप में सम्मिलित हुए।

उस समय यूरोप और अमेरिका के लोग पराधीन भारतीयों को हीन भावना से देखते थे।

वहाँ लोगों ने सब कुछ किया ताकि स्वामी विवेकानन्द को सर्वधर्म परिषद में बोलने का समय न मिले।

एक अमेरिकी प्रोफेसर के प्रयास से उन्हें कुछ समय तो मिल गया, लेकिन उनके विचार सुनकर सभी विद्वान आश्चर्यचकित रह गये।

तब अमेरिका में इसका बहुत स्वागत हुआ था. वहाँ उनके भक्तों का एक बड़ा समुदाय था।

वे तीन वर्ष तक अमेरिका में रहे और वहां के लोगों को भारतीय दर्शन का अद्भुत प्रकाश प्रदान करते रहे।

“भारतीय अध्यात्म और दर्शन के बिना विश्व अनाथ हो जायेगा” स्वामी विवेकानन्द का दृढ़ विश्वास था।

उन्होंने अमेरिका में रामकृष्ण मिशन की कई शाखाएँ स्थापित कीं। अनेक अमेरिकी विद्वानों ने उनका शिष्यत्व स्वीकार किया।

वे हमेशा खुद को गरीबों का सेवक कहकर संबोधित करते हैं। उन्होंने सदैव देश-विदेश में भारत का गौरव बढ़ाने का प्रयास किया।

4 जुलाई, 1902 को उन्होंने अपना शरीर त्याग दिया।

यह भी पढ़े –

निष्कर्ष-

  • आशा करते है Swami Vivekanand Story In Hindi, स्वामी विवेकानंद की कहानी हिंदी में, Swami Vivekananda Life Story in Hindi, स्वामी विवेकानंद की महत्वपूर्ण बातें के बारे में आप अच्छे से समझ चुके होंगे.
  • यदि आपको हमारा लेख पसंद आय होतो आप अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर करे और
  • यदि आपको लगता है कि इस लेख में सुधार करने की आवश्यकता है तो अपनी राय कमेंट बॉक्स में हमें जरूर दें.
  • हम निश्चित ही उसे सही करिंगे जो की आपकी शिक्षा में चार चाँद लगाएगा
  • यह पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवा