Stories
Photo of author

Elephant And Tailor Story In Hindi

आज हम जानेगे Elephant And Tailor Story In Hindi | हाथी और दर्जी की कहानी हिंदी में | Short Hindi Story of Elephant And Tailor | पंचतंत्र कहानियों में हाथी और दर्जी कहानी के बारे में बताने वाले है.

जैसा की हमने आपको Title में बताया है की आज हम हाथी और दर्जी कहानी की मोरल के बारे में बताने वाले है की जो हिंदी में हाथी और दर्जी की कहानी महत्वपूर्ण संदेश समझने में बहुत ही आसानी होगी.

ये शिक्षाप्रद कहानियाँ जो की Moral of Elephant and Tailor Story In Hindi वो नीचे उनको अब आपको बताने वाले है-

Elephant And Tailor Story In Hindi

अब आप नीचे दिए हाथी और दर्जी की कहानी इन हिंदी जो ये बच्चों के लिए कहानियां आपकी सभी बोर्ड पेपर से ली गयी है –

हाथी और दर्जी की कहानी हिंदी में –

एक गाँव में एक दर्जी रहता था। उनका स्वभाव सरल, दूसरों के प्रति दयालु और मिलनसार था। पूरे गाँव ने उसे अपने कपड़े सिलने के लिए दिए।

एक दिन एक हाथी दर्जी की दुकान पर आया, वह बहुत भूखा था। दर्जी ने हाथी को खाने के लिए केला दिया।

Elephant And Tailor Story In Hindi

अब हाथी प्रतिदिन उस दर्जी की दुकान पर आने लगा। दर्जी भी प्रतिदिन हाथी को केले देने लगा। बदले में हाथी कई बार उसे अपनी पीठ पर उठाकर सैर कराता था. दोनों के बीच का प्यार देखकर गांव वाले भी हैरान रह गए.

एक दिन दर्जी को नौकरी के लिए गाँव छोड़ना पड़ा। उसने अपने बेटे को दुकान पर बैठाया।

हाथी और दर्जी की कहानी हिंदी में

जाने से पहले दर्जी ने अपने बेटे को एक केला दिया और कहा कि अगर हाथी आए तो उसे खिला देना।

दर्जी का बेटा बहुत शरारती था. दर्जी के जाने के बाद ही उसने केला खुद खाया। जब हाथी आया तो दर्जी के बेटे को एक शरारत सूझी। उसने एक सुई ली और उसे अपने हाथ के पिछले हिस्से में छिपाकर हाथी के पास आया।

हाथी ने सोचा कि वह उसे केला देने आया है। उसने सूंड आगे बढ़ा दी. जैसे ही हाथी ने अपनी सूंड फैलाई, दर्जी के बेटे ने उसे सुई चुभो दी।

हथिनी को बिलबिला पीड़ा महसूस हुई। यह देखकर दर्जी का बेटा बहुत खुश हुआ और तालियाँ बजाकर हँसने लगा।

हाथी दर्द से कराह उठा और पास की नदी की ओर भाग गया। वहां पहुंचकर उसने अपनी सूंड पानी में डुबो दी। कुछ देर नदी के ठंडे पानी में रहने के बाद उसे आराम महसूस हुआ।

हाथी दर्जी के बेटे से बहुत नाराज था। उसने उसे सबक सिखाने का फैसला किया और अपनी सूंड में गंदा पानी भरा और दर्जी की दुकान पर पहुंच गया। दर्जी का बेटा फिर से वही काम करना चाहता था।

जैसे ही हाथी पास आया, वह सुई चुभाने के लिए आगे बढ़ा, लेकिन हाथी ने अपनी सूंड में भरी सारी मिट्टी उस पर फेंक दी।

Short Hindi Story of Elephant And Tailor

लड़का दुकान के दरवाजे के पास खड़ा था. वह पूरी तरह कीचड़ में सन गया। हाथी की दुकान के अंदर कीचड़ फेंक दिया गया और लोगों द्वारा दिये गये कपड़े भी गंदे हो गये.

उसी समय दर्जी भी अपना काम खत्म करके दुकान पर लौट आया। वहां की स्थिति देखकर उसे कुछ समझ नहीं आ रहा था. उसने अपने बेटे से पूछा तो बेटे ने उसे सारी बात बता दी।

दर्जी ने अपने बेटे को समझाया कि तुमने हाथी के साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया, इसलिए उसने भी तुम्हारे साथ वैसा ही व्यवहार किया।

हम जैसा आचरण करेंगे, दूसरा व्यक्ति भी वैसा ही आचरण करेगा। फिर कभी किसी के साथ बुरा न करें।

अब दर्जी हाथी के पास आया, उसकी पीठ थपथपाई और उसे केला खिलाया। हाथी फिर खुश हो गया.

दर्जी के बेटे ने उसे केले भी खिलाये। दर्जी का बेटा और हाथी अब दोस्त बन गये थे।

हाथी भी बालक को अपनी पीठ पर उठाकर चलने लगा। अब दर्जी का बेटा सुधर गया था और दूसरों के साथ भी अच्छा व्यवहार करने लगा था।

हाथी और दर्जी कहानी की मोरल-

कहानी से सीख –इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि हमें कभी भी किसी का बुरा नहीं करना चाहिए। जैसा आप किसी के साथ करेंगे वैसा ही आपके साथ भी किया जाएगा।

यह भी पढ़े –

निष्कर्ष-

  • आशा करते है हाथी और दर्जी की कहानी हिंदी में, Short Hindi Story of Elephant And Tailor, Elephant And Tailor Story In Hindi With Moral के बारे में आप अच्छे से समझ चुके होंगे.
  • यदि आपको हमारा लेख पसंद आय होतो आप अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर करे और
  • यदि आपको लगता है कि इस लेख में सुधार करने की आवश्यकता है तो अपनी राय कमेंट बॉक्स में हमें जरूर दें.
  • हम निश्चित ही उसे सही करिंगे जो की आपकी शिक्षा में चार चाँद लगाएगा
  • यह पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद