Stories
Photo of author

Bee And Dove Story In Hindi

आज हम जानेगे Bee And Dove Story In Hindi | कबूतर और मधुमक्खी की कहानी | Story Of Bee And Dove In Hindi | कबूतर और मधुमक्खी की लोककथा का संक्षेप में बताने वाले है.

जैसा की हमने आपको Title में बताया है की आज हम Bee And Dove Story के बारे में आप कहानियां बताने वाले है की जो बी और डव की मनोरंजन कहानी समझने में बहुत ही आसानी होगी.

ये Bee And Dove Story प्यार और सहानुभूति की कहानियाँ आपके बच्चो को जीवन में मधुमक्खी और कबूतर सच्ची दोस्ती की मिसाल होंगी जो नीचे उनको अब आपको बताने वाले है-

Bee And Dove Story In Hindi –

अब आप नीचे दिए कबूतर और मधुमक्खी की कहानी हिंदी में जो ये बच्चों के लिए शिक्षाप्रद कहानियां आपकी सभी बोर्ड पेपर से ली गयी है –

कबूतर और मधुमक्खी की कहानी

अब आप नीचे दिए कबूतर और मधुमक्खी की कहानी हिंदी में जो ये कहानियां आपकी सभी बोर्ड पेपर से ली गयी है –

एक समय की बात है। एक जंगल में नदी के किनारे एक पेड़ पर एक कबूतर रहता था।

Bee And Dove Story In Hindi

एक दिन, एक मधुमक्खी उसी जंगल में कहीं से गुजर रही थी और अचानक एक नदी में गिर गयी।

उसके पंख गीले हो गये. उसने बाहर निकलने की पूरी कोशिश की, लेकिन निकल नहीं पाई।

जब उसे लगा कि वह मरने वाली है तो वह मदद के लिए चिल्लाने लगी।

तभी पास के पेड़ पर बैठे कबूतर ने उसे देख लिया। कबूतर तुरंत उसकी मदद के लिए पेड़ से नीचे उड़ गया।

कबूतर को मधुमक्खी को बचाने की एक युक्ति सूझी। कबूतर ने अपनी चोंच से एक पत्ता उठाया और नदी में फेंक दिया।

जैसे ही मधुमक्खी को वह पत्ता मिला, वह उस पर बैठ गई। शीघ्र ही उसके पंख सूख गये। अब वह उड़ने के लिए तैयार थी.

Bee And Dove Story In Hindi

उसने अपनी जान बचाने के लिए कबूतर को धन्यवाद दिया। इसके बाद मधुमक्खी वहां से उड़ गई.

इस घटना को कई दिन बीत गये थे. एक दिन वही कबूतर गहरी नींद में सो रहा था कि अचानक एक लड़के ने उस पर गुलेल से हमला कर दिया।

कबूतर गहरी नींद में सो रहा था, इसलिए उसे इसका एहसास नहीं हुआ, लेकिन उसी समय एक मधुमक्खी वहां से गुजर रही थी, जिसकी नजर लड़के पर पड़ी।

यह वही मधुमक्खी थी जिसकी जान कबूतर ने बचाई थी। मधुमक्खी तुरंत लड़के की ओर उड़ी और सीधे उसके हाथ पर डंक मार दिया।

कबूतर और मधुमक्खी की कहानी

मधुमक्खी के डंक मारते ही लड़का जोर से चिल्लाया। गुलेल उसके हाथ से छूट गयी और वह गिर पड़ा।

लड़के की चीख सुनकर कबूतर जाग गया। मधुमक्खी की बदौलत वह सुरक्षित बच गया।

कबूतर को सारी बात समझ आ गई. उसने अपनी जान बचाने के लिए मधुमक्खी को धन्यवाद दिया और वे दोनों जंगल की ओर उड़ गए।

आशा करते है की यह कहानी आपको बेहद पसंद आई होगी इसमें कहानी कबूतर और मधुमक्खी की दोस्ती के बारे में आपको बताया है और आपसे आशा करते है की आप अपने जीवन में इसी प्रकार से किसी न किसी की सहायता करिंगे.

कहानी से सबक- इस कहानी से यह सीख मिलती है कि हमें मुसीबत में फंसे व्यक्ति की मदद जरूर करनी चाहिए। इससे हमें भविष्य में निश्चित ही अच्छे परिणाम मिलेंगे।

यह भी पढ़े –

निष्कर्ष-

  • आशा करते है Bee And Dove Story In Hindi, कबूतर और मधुमक्खी की कहानी हिंदी में, आपसी समर्पण की मिसाल, नैतिक कहानियाँ, बी और डव की मनोरंजन कहानी, दो प्रकृतियों की मित्रता की कहानी के बारे में आप अच्छे से समझ चुके होंगे.
  • यदि आपको हमारा लेख पसंद आय होतो आप अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर करे और
  • यदि आपको लगता है कि इस लेख में सुधार करने की आवश्यकता है तो अपनी राय कमेंट बॉक्स में हमें जरूर दें.
  • हम निश्चित ही उसे सही करिंगे जो की आपकी शिक्षा में चार चाँद लगाएगा
  • यह पोस्ट पढ़ने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद